अटल भूजल योजना 2023 | Atal Bhujal Yojana विशेषताएं, उद्देश्य व कार्यान्वयन प्रक्रिया - UP

अटल भूजल योजना 2023 | Atal Bhujal Yojana विशेषताएं, उद्देश्य व कार्यान्वयन प्रक्रिया

Atal Bhujal Yojana Apply Online | अटल भूजल योजना रजिस्ट्रेशन फॉर्म | Atal Bhujal Yojana Registration Form | अटल भूजल योजना कार्यान्वयन प्रक्रिया

Table of Contents

देश में भूजल स्तर के गिरावट को रोकने के लिए अनेक प्रयासों का प्रयास किया जा रहा है, जिसका तहत कई योजनाओं की शुरुआत की गई है। देश के विभिन्न राज्यों में पानी की समस्या बढ़ रही है, और इसे ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 2023 में ‘अटल भूजल योजना’ की शुरुआत की है। इसके माध्यम से सरकार सभी भूजल संसाधनों के प्रबंधन में सुधार करेगी, ताकि सभी नागरिकों को स्वच्छ और पीने योग्य जल प्राप्त हो सके। जल बिना जीवन असंभव है और कई राज्यों में पीने लायक पानी की कमी हो रही है। अनेक स्थानों पर जल स्तर बहुत कम हो गया है, जो सरकार के लिए बहुत चिंताजनक है। इसी चिंता का समाधान करने के लिए ‘अटल भूजल योजना’ की शुरुआत की गई है। इस योजना के माध्यम से सरकार भूजल प्रबंधन में अधिक प्रयास करेगी, ताकि राज्यों के सभी नागरिकों को स्वच्छ और पीने योग्य पानी उपलब्ध हो सके। ‘अटल भूजल योजना’ के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को ध्यानपूर्वक पढ़ें।[(रजिस्ट्रेशन) प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 2023: PMKVY ऑनलाइन आवेदन व पंजीकरण फॉर्म ]

Atal Bhujal Yojana 2023

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने अटल भूजल योजना की शुरुआत की है, जिसके तहत उन राज्यों में पानी का स्तर अधिक नीचे गिर चुका है, वहां पानी के प्रबंधन को बेहतर बनाने के प्रयास किए जाएंगे। यह योजना मोदी जी ने दिल्ली में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपाई जी के 95वें जन्म दिवस के अवसर पर घोषित की थी। ‘अटल भूजल योजना’ को जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय द्वारा जल संकट वाले क्षेत्रों में लागू किया जाएगा और इसका प्रबंधन केंद्रीय जल संसाधन मंत्रालय द्वारा किया जाएगा, ताकि जल की समस्या को जल्दी से जल्द खत्म किया जा सके। इस योजना के अंतर्गत सात राज्यों को चुना गया है जिनमें पानी की समस्या अधिक है: हरियाणा, गुजरात, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान और उत्तर प्रदेश। इन राज्यों की 8353 जल संकट ग्रस्त ग्राम पंचायतों में ‘अटल भूजल योजना 2023’ का सफल प्रबंधन किया जाएगा। भारत सरकार ने इस योजना के सफल प्रबंधन के लिए छह हजार करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया है, जो ‘अटल भूजल योजना 2023’ के तहत खर्च किए जाएंगे। इस बजट की 3000 करोड़ रुपए की राशि सरकार विश्व बैंक से ऋण के रूप में प्राप्त करेगी, और बाकी 3000 करोड़ रुपए सरकार की योगदान से होगा।

Overview of Atal Bhujal Yojana

योजना का नामअटल भूजल योजना 2023
आरम्भ की गईकेंद्र सरकार द्वारा
वर्ष2023 में
लाभार्थीऐसे राज्य जहा पानी की समस्या बहुत ज्यादा है
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन
उद्देश्यभूजल के स्तर को बढ़ाकर साफ़ पानी उपलब्ध कराना
लाभनागरिकों को पीने के लिए साफ पानी की व्यवस्था करना
श्रेणीकेंद्र सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइटhttps://ataljal.mowr.gov.in/

अटल भूजल योजना का उद्देश्य

केंद्र सरकार ने अटल भूजल योजना 2023 के माध्यम से ऐसे राज्यों को उद्धारण किया है, जहाँ जल संकट अधिक दिख रहा है। यह योजना भूजल संसाधनों के प्रबंधन में सुधार करने का उद्देश्य रखती है ताकि स्थायी नागरिकों को स्वच्छ पानी उपलब्ध हो सके। इसका मुख्य उद्देश्य राज्यों में भूजल की मात्रा को बढ़ाकर किसानों को पर्याप्त जल उपलब्ध कराना है ताकि खेती संभावित हो सके। ‘अटल भूजल योजना’ के सफल आचरण से भूजल स्तर में सुधार होगा, जिससे स्वच्छ पानी की समस्या दूर होगी। भारत सरकार गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान और उत्तर प्रदेश राज्यों पर विशेष ध्यान देगी, क्योंकि इन राज्यों में पानी की समस्या अधिक उत्कृष्ट है। केंद्र सरकार ‘अटल भूजल योजना’ के माध्यम से जनता को पानी के महत्व के बारे में जागरूक करेगी, जिससे पानी का उचित उपयोग होगा। घर-घर तक पीने का पानी पहुँचाने का उद्देश्य निर्धारित किया गया है, और इसके लिए योजना का सफल आचरण शीघ्र होगा।

नीति आयोग द्वारा जारी की गई रिपोर्ट

“अटल भूजल योजना” के तहत, लगातार कम हो रहे जलस्तर से उत्पन्न संकट से भारत देश 2023 तक निकलेगा, इसका निर्धारण नीति आयोग ने अपनी रिपोर्ट के माध्यम से किया है। इसके साथ ही, राज्य भूजल विभाग और केंद्रीय भूजल बोर्ड के आंकड़ों के आधार पर, भारत में 6584 इकाइयों (ब्लॉक/मंडल) में से 1034 इकाइयों को राज्य सरकार द्वारा “बहुत अधिक दोहन इकाई” की श्रेणी में रखा गया है। इस स्थिति को “डार्क जोन” के रूप में जाना जाता है, जिसका अर्थ है “पानी के संकट की स्थिति”।

Atal Bhujal Yojana 2023 के लाभ तथा विशेषताएं

  • भारत के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने अटल भूजल योजना का शुभारंभ किया है।
  • केंद्र सरकार इस योजना के माध्यम से 7 राज्यों पर अपना ध्यान केंद्रित करेगी जहाँ जल संकट अधिक है।
  • ऐसे राज्यों में सरकार इस योजना के माध्यम से स्थाई भूजल प्रबंधन पर विचार करेगी एवं इसमें सुधार के लिए आवश्यक प्रयास भी करेगी।
  • योजना के अंतर्गत सरकार का प्रयोजन नागरिकों को साफ जल मुहैया कराना और किसानों की आय को दोगुना करना है।
  • सरकार लोगो में पानी को लेकर जागरूकता पैदा करेगी, ताकि पानी का दुरूपयोग कम किया जा सके।
  • अटल भूजल योजना के संचालन के लिए सरकार ने 6000 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया है, जो साफ़ पानी मुहैया कराने के लिए ही खर्च किए जाएंगे।
  • इस बजट की 3000 करोड़ रुपए की राशि सरकार विश्व बैंक से ऋण के रूप में लेगी और बाकी 3000 करोड़ रुपए भारत सरकार द्वारा खर्च किए जाएंगे।
  • योजना का मुख्य फोकस हरियाणा, गुजरात, कर्नाटका, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान और उत्तर प्रदेश राज्यों पर रहेगा।
  • हर राज्य को इस योजना के माध्यम से सहायता स्वरूप धनराशि प्रदान की जाएगी, जिसकी मदद से इस योजना का संचालन प्रत्येक राज्य में सही से हो सके।
  • अटल भूजल योजना 2023 में शामिल राज्यों की 8353 जल संकट ग्रस्त ग्राम पंचायतों में इस योजना का सफलतापूर्वक संचालन किया जाएगा।

अटल भूजल योजना स्कीम कॉम्पोनेंट

  • संस्थागत सिद्धि करण और क्षमता निर्माण घटक:
    • इस योजना के कंपोनेंट के तहत आने वाले राज्यों को थाई भूजल प्रबंधन के बारे में जागरूक करके सक्षम बनाया जाएगा।
    • राज्य सरकार इसके लिए मजबूत डेटाबेस, वैज्ञानिक दृष्टिकोण और सामुदायिक भागीदारी का उपयोग करेगी।
    • सरकार ने इसके लिए 1400 करोड़ रुपए की धनराशि का बजट तय किया है, जिसका उपयोग थाई भूजल प्रबंधन से संबंधित कार्यों में किया जाएगा।

     

  • प्रोत्साहन घटक:
    • इस योजना के कंपोनेंट के तहत केंद्र और राज्य सरकार भूजल के स्तर को बढ़ाने के लिए कार्य करेंगी।
    • केंद्र सरकार इसके लिए समुदायिक भागीदारी, मांग प्रबंधन और अभिसरण पर जोर देगी।
    • सरकार ने इसके लिए 4600 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया है।

अटल भूजल योजना 2023 के तहत संवितरण से जुड़े संकेतक

  • भूजल डाटा/सूचना और रिपोर्ट का सार्वजनिक प्रकटीकरण – प्रोत्साहन निधि का 10%
  • समुदाय के नेतृत्व वाली जन सुरक्षा योजनाओं की तैयारी- प्रोत्साहन विधि का 15%
  • चालू योजनाओं के अभी सारण के माध्यम से हस्तक्षेप ओ का सार्वजनिक वित्त पोषण- प्रोत्साहन मिलेगा 20%
  • कुशल जल उपयोग के लिए प्रथाओं को अपनाना- प्रोत्साहन निधि का 40%
  • भूजल स्तर में गिरावट की दर में सुधार- प्रोत्साहन निधि का 15%

अटल भूजल योजना के ऑनलाइन आवेदन कैसे करे ?

  • यदि आप अटल भूजल योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं, तो निम्नलिखित चरणों का पालन करें:
    1. सबसे पहले आपको अटल भूजल योजना के बारे में जानकारी हासिल करनी होगी। इसके बाद, वेबसाइट के होमपेज पर जाएं।
    2. होमपेज पर, “Training & Workshop” विकल्प पर क्लिक करें और उसमें से “Registration for Training & Capability Building” विकल्प चुनें।
    3. अब आपको एक फॉर्म दिखाई देगा, जिसमें आवश्यक जानकारी भरनी है। इसमें आपको आवेदक का नाम, आयु, लिंग, शिक्षण जानकारी, ईमेल आईडी, जिला, फ़ोन नंबर, और ट्रैनिंग का नाम शामिल करनी है।
    4. सभी जानकारी भरने के बाद, चित्र में दिए गए कैप्चा कोड को भरें और फॉर्म को सबमिट करें।

    इस रूप में, आपका अटल भूजल योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन पूरा हो जाएगा।

मोबाइल ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • यदि आप अटल भूजल योजना की वेबसाइट से ऐप डाउनलोड करना चाहते हैं, तो निम्नलिखित चरणों का पालन करें:
    1. सबसे पहले आपको अटल भूजल योजना की वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद, वेबसाइट के होम पेज पर जाएं।
    2. होम पेज पर, “Atal Jal App Apk Download” विकल्प पर क्लिक करें।
    3. अब, आपकी डिवाइस में मोबाइल ऐप का डाउनलोड प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। डाउनलोड पूरा होने के बाद, आपको ऐप को इंस्टॉल कर लेना है।

    इस प्रकार, अटल भूजल ऐप आपकी डिवाइस में सफलतापूर्वक इंस्टॉल हो जाएगा।

एमआईएस लॉगिन करने की प्रक्रिया

  • निम्नलिखित चरणों का पालन करें ताकि आप अटल भूजल योजना की वेबसाइट में लॉग इन कर सकें:
    1. सबसे पहले आपको अटल भूजल योजना की वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद, वेबसाइट के होम पेज पर जाएं।
    2. होम पेज पर, “Login” विकल्प पर क्लिक करें। इसके बाद, आपके सामने एक लॉगिन फॉर्म खुल जाएगा।
    3. अब, इस लॉगिन फॉर्म में अपनी “ईमेल आईडी, पासवर्ड, और कैप्चा कोड” डालें।
    4. जानकारी दर्ज करने के बाद, “लॉगिन” विकल्प पर क्लिक करें और इस प्रकार आप अपने एमआईएस में सफलतापूर्वक लॉग इन कर पाएंगे।

एमआईएस लॉगिन करने की प्रक्रिया

  • निम्नलिखित चरणों का पालन करें ताकि आप अटल भूजल योजना की वेबसाइट में लॉग इन कर सकें:
    1. सबसे पहले आपको अटल भूजल योजना की वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद, आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
    2. होम पेज पर, “लॉगिन” विकल्प पर क्लिक करें। इसके बाद, आपके सामने लॉगइन फॉर्म प्रदर्शित हो जाएगा।
    3. आपको इस फॉर्म में अपना “ईमेल आईडी, पासवर्ड, और कैप्चा कोड” दर्ज करना है, और “लॉगिन” बटन पर क्लिक कर देना है।
    4. अंत में, इस प्रक्रिया का पालन करके आप सरलता से अपने एमआईएस में लॉग इन कर पाएंगे।

वाटर लेवल, वॉटर क्वालिटी या हाइड्रोलॉजिकल रिपोर्ट देखने की प्रक्रिया

  • निम्नलिखित चरणों का पालन करें ताकि आप अटल भूजल योजना की वेबसाइट में जाकर जानकारी डाउनलोड कर सकें:
    1. सबसे पहले आपको अटल भूजल योजना की वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद, आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
    2. होम पेज पर, “डाटा डिस्क्लोजर” विकल्प पर क्लिक करें। इसके बाद आपके सामने विभिन्न विकल्प प्रदर्शित होंगे।
    3. यहाँ से आप अपनी इच्छानुसार विकल्प का चयन करें और अपने राज्य का चयन करें। इसके बाद, आपको “लिस्ट” को डाउनलोड करना होगा।
    4. अब, संबंधित जानकारी आपके सामने आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर प्रदर्शित हो जाएगी।

डैशबोर्ड देखने की प्रक्रिया

  • निम्नलिखित चरणों का पालन करें ताकि आप अटल भूजल योजना की वेबसाइट में जाकर जानकारी प्राप्त कर सकें:
    1. सबसे पहले आपको अटल भूजल योजना की वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद, वेबसाइट का होम पेज आपके सामने खुलेगा।
    2. होम पेज पर, “डेटा डिस्क्लोजर” विकल्प पर क्लिक करें। इसके बाद, आपके सामने एक नया पृष्ठ खुलेगा।
    3. अब इस पृष्ठ पर, आपको अपने “राज्य और वित्तीय वर्ष” का चयन करना होगा, और संबंधित जानकारी आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर प्रदर्शित हो जाएगी।

ग्रीवेंस दर्ज करने की प्रक्रिया

  • निम्नलिखित चरणों का पालन करें ताकि आप अटल भूजल योजना की वेबसाइट पर ग्रीवेंस दर्ज कर सकें:
    1. सबसे पहले आपको अटल भूजल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद, वेबसाइट का होम पेज आपके सामने खुलेगा।
    2. होम पेज पर, “ग्रीवेंस” विभाग में से “ग्रीवेंस दर्ज करें” विकल्प पर क्लिक करें। इसके बाद, एक नया पृष्ठ खुलेगा।
    3. अब इस पृष्ठ पर, ग्रीवेंस फॉर्म में पूछे गए सभी आवश्यक विवरण दर्ज करें, जैसे: सब्जेक्ट, ग्रीवेंस टाइप, ग्रीवेंस एड्रेस टू, कंप्लेनेंट नेम, ईमेल, मोबाइल नंबर, एड्रेस, डिस्क्रिप्शन आदि।
    4. सभी विवरणों को दर्ज करने के बाद, अब आपको “सबमिट” बटन पर क्लिक करना है, जिससे आपकी ग्रीवेंस दर्ज हो जाएगी।

ग्रीवेंस स्टेटस चेक करने की प्रक्रिया

  • यदि आप अटल भूजल योजना की ग्रीवेंस स्थिति जांच करना चाहते हैं, तो निम्नलिखित चरणों का पालन करें:
    1. सबसे पहले आपको अटल भूजल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद, वेबसाइट का होम पेज आपके सामने खुलेगा।
    2. होम पेज पर, “ग्रीवेंस” सेक्शन में से “ग्रीवेंस चेक” विकल्प पर क्लिक करें। इसके बाद, एक नया पृष्ठ खुलेगा।
    3. अब इस पृष्ठ पर, आपको अपनी “ग्रीवेंस आईडी” दर्ज करनी है, और “गेट स्टेटस” विकल्प पर क्लिक कर देना है। इस प्रक्रिया से आप अपनी ग्रीवेंस स्थिति चेक कर सकेंगे।

फीडबैक दर्ज करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले, अटल भूजल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। इसके बाद, वेबसाइट के होम पेज पर आपको “ट्रेनिंग एंड वर्कशॉप” विभाग में जाकर “विकल्प” पर क्लिक करें। इसके बाद, नया पृष्ठ खुलेगा।अब इस पृष्ठ पर, “फीडबैक फॉर्म” में पूछी गई सारी जानकारी दर्ज करें, जैसे कि नाम, पता, रजिस्ट्रेशन नंबर, विषय, स्थान, राज्य, आदि। जानकारी भरने के बाद, “सबमिट” बटन पर क्लिक करें और इस रूप में आप अपना फीडबैक सबमिट कर सकेंगे।

संपर्क विवरण देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले, आपको अटल भूजल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद, वेबसाइट के होम पेज पर जाकर “कांटेक्ट” विकल्प पर क्लिक करें। इसके बाद, आपको विभिन्न विकल्पों का चयन करने के लिए दिखाए जाने वाले कुछ विकल्प मिलेंगे, जैसे:यहाँ से, आपको आपकी आवश्यकता के हिसाब से संपर्क जानकारी के विकल्प पर क्लिक करना है। इसके बाद, संबंधित संपर्क जानकारी आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर प्रदर्शित हो जाएगी।

“अटल भूजल योजना” से संबंधित सामान्य प्रश्नों का उत्तर:

  1. अटल भूजल योजना क्या है?
    • अटल भूजल योजना भारत सरकार की एक पहल है जो जल संसाधन के प्रबंधन को सुधारने के लिए शुरू की गई है। इसका उद्देश्य है स्थायी भूजल प्रबंधन को बढ़ावा देना और जल संकट को कम करना।
  2. इस योजना के तहत कौन-कौन से राज्य शामिल हैं?
    • अटल भूजल योजना का उद्देश्य विशेष रूप से राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश के उन राज्यों को ध्यान में रखता है जिनके जल संकट की अधिकता है।
  3. योजना के तहत कौन-कौन से उपाय अधिकारियों को उपलब्ध कराए जाएंगे?
    • योजना के अंतर्गत स्थानीय समुदाय, सरकारी अधिकारी, और जल संवर्धन एवं प्रबंधन क्षेत्र में काम करने वाले व्यक्तियों को उपाय अधिकारियों के रूप में उपलब्ध किया जाएगा।
  4. योजना के तहत क्या प्रकार की गतिविधियां होंगी?
    • अटल भूजल योजना के तहत नीतियाँ, प्रशासनिक व्यवस्थाएँ और तकनीकी सहायता प्रदान की जाएगी। इसमें स्थायी भूजल प्रबंधन, जल संचयन, और जल संवर्धन सम्बन्धित गतिविधियां शामिल होंगी।
  5. योजना के लाभ क्या हैं?
    • अटल भूजल योजना के लाभ में स्थायी भूजल के प्रबंधन में सुधार, जल संकट कमी, नदियों और झीलों के जल स्तर के सुरक्षित कार्य, और जल संवर्धन की अधिक जागरूकता शामिल हैं।
  6. योजना के लिए कैसे आवेदन करें?
    • योजना के लिए आवेदन करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवश्यक जानकारी और फॉर्म भरें।
  7. और कुछ सहायक जानकारी के लिए कहाँ संपर्क करें?
    • अधिक जानकारी के लिए आप आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर संपर्क जानकारी प्राप्त कर सकते हैं या सम्बंधित विभाग से संपर्क कर सकते हैं।

Leave a Comment